Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
  • Home ›  
  • मौनी अमावस्या 2022 | वर्ष 2022 मौनी अमावश्या का मूहुर्त, महत्व | Mauni Amavashya 2022

मौनी अमावस्या 2022 | वर्ष 2022 मौनी अमावश्या का मूहुर्त, महत्व | Mauni Amavashya 2022

मौनी अमावस्या 2022
July 6, 2021

मौनी अमावस्या 2022 | जानिए क्या है मौनी अमावस्या, इस दिन किन बातों का रखना चाहिए ध्यान और जाने हिंदु धर्म में मौनी अमावस्या के महत्व को

हिंदु धर्म में माघ माह में अनेक धार्मिक पर्व आते हैं। सब त्योहारों की अपनी-अपनी अलग विशेषताएँ और कथाएं होती हैं। सनातन धर्म पंचाग के अनुसार माघ माह के कृष्ण पक्ष की अमावस्या की रात को मौनी अमावस्या के नाम से मनाया जाता है। माघ अमावस्या या मौनी अमावस्या को गंगा, नर्मदा, क्षिप्रा, यमुना और सरस्वती पवित्र नदियों में किए स्नान को बहुत विशेष माना गया है। ग्रहों और नक्षत्रों की बनी अदभुत अवस्था के कारण मौनी अमावस्या के दिन कई अलग अलग तरह के योग बनते हैं। दोष निवारण के लिए इस दिन की पूजा से कई गुना ज्यादा फल की प्राप्ति होती है। इस दिन पीपल वृक्ष और भगवान श्री विष्णु की पूजा का विशेष महत्व है। 

मौनी अमावस्या के दिन सही विधि और शांत मन से मौन रखकर भगवान की अराधना करने पर मुनि पद की प्राप्ति होती है। मुनि शब्द से मौनी शब्द का जन्म हुआ था और पुरानी कथाओं व मान्यताओं के अनुसार प्रथम पुरूष की मान्यता प्राप्त मुनि ऋषि का जन्म इसी दिन हुआ था। इस दिन पर दान देना बहुत शुभ माना जाता और कई गुना फल की प्राप्ति होती है। इस दिन बुरे शब्दों के प्रयोग से बचना चाहिए। वैदिक ज्योतिष के अनुसार चंद्रमा का बुरा प्रभाव सीधे मन पर पड़ता है और अमावस्या के समय चंद्रमा दिखाई नहीं देता। जिससे चंद्रमा की अनुपस्थिति में मन विचलित रहने लगता है और कमजोर पड़ता है।

जानिए क्यों मौनी अवामाश्य को रखना चाहिए व्रत

मन की शांति और चित्त की वृद्धि के लिए इस दिन मौन रखा जाता है। किसी कारणवश जातकों के लिए मौन व्रत रखना संभव नहीं हो पाता है तो वह कुछ समय का मौन व्रत रखकर पूजा पाठ करने के उपरांत इस व्रत को खोल सकते हैं। इसके अलावा यदि आप मौन व्रत नहीं रख रहें है फिर की वाणी का आवश्यकता अनुसार की प्रयोग करना चाहिए। मौनी अमावस्या के दिन बुरे शब्दों का प्रयोग करना अशुभ माना गया है। पितरों के पूजन के लिए इस दिन को उत्तम माना गया है। पितरों की पूजा के इस दिन चंद्रमा की रोशनी भी नहीं पड़ती है। जिसके चलते थाई अमावस्या के दिन कई ऐसी चीजों का ध्यान रखना पड़ता है जिससे की दोष लगता है  और शनि के बुरे प्रभावों के पड़ने खतरा बना रहता है । मौनी अमावस्या के दिन क्या करना चाहिए और क्या नहीं इसके बारे में हम आपको आगे विस्तार से बताएंगे । इससे पहले मौनी अमावस्या के बारे में जानते हैं।

 

क्या होती है मौनी अमावस्या – जानिए मौनी अमावश्या 2022 का महत्व ?

शास्त्रों में मौनी अमावस्या का विशेष महत्व बताया गया है। हिंदु पंचाग के अनुसार माघ के महीने में कृष्ण पक्ष के समय आने वाली रात्रि को सनातन धर्म में माघ अमावस्या अर्थात मौनी अमावस्या के नाम से जाना जाता है। इस दिन ग्रहों और नक्षत्रों के पवित्र संगम के कारण देवताओं का निवास होता है और मानसिक शांति और सुख की प्राप्ति के लिए मौन व्रत रखा जाता है।

मान्यताओं के अनुसार समुद्र मंथन के समय अमृत की कुछ बूंदे पृथ्वी पर आ गिरी थी। यह बूंदे जिन जगहों पर गिरी थी वहीं से होकर हमारी पवित्र नदियां बहती हैं। इसलिए मौनी अमावस्या के दिन गंगा, नर्मदा और क्षिप्रा जैसी पवित्र नदियों में स्नान की विशेष महत्ता है। गंगा स्नान को इन सभी में से विशेष माना गया है। किसी कारणवश अगर आप इन पवित्र नदियों में नहीं स्नान कर सकें तो पास के किसी तालाब या बहते पानी में स्नान करना भी बहुत फलदायक होता है। कहा जाता इस अमावस्या के दिन बने विशिष्ट योग और देवताओं की उपस्थिति में सभी बहते पाने के स्त्रोतों में नहाने से गंगा माता स्नान के समान फल मिलता है। वहीं गंगा स्नान द्वारा पहले से कई गुना फल मिलता है।

 

वर्ष 2022 मौनी अमावस्या पूजा मुहूर्त  – 

मौनी अमावस्या के पर्व पर पूजा को शुभ मुहूर्त के समय में ही करना चाहिए। इस शुभ मुहूर्त अमावस्या की अवधि के आधार पर निकाला जाता है। इससे पहले या बाद में की गई पूजा सामान्य पूजा के समान ही मानी जाएगी। लेकिन इस मुहूर्त में विधि विधान से की गई पूजा शुभदायक होती है। पितरों की पूजा के लिए पूरा दिन शुभ है जिसमें आप पूजा से अपने पितरों को खुश करके उनका आशीर्वाद पा सकते हैं।

वर्ष 2022 में एक फरवरी मंगलवार के दिन को मौनी अमावस्या है जिसकी पूजा का शुभ मुहूर्त इस प्रकार है:-

वर्ष 2022 में 31 जनवरी सोमवार दिन के दोपहर 2 बजकर 18 मिनट पर अमावस्या तिथि आरंभ हो जाएगी और अगले मंगलवार दिन की सुबह 11 बजकर 15 मिनट पर समाप्त हो जाएगी।

 

मौनी अमावस्या के दिन क्या करें क्या न करें – मौनी अमावश्या के दिन क्या करना चाहिए जिस से जीवन के कष्ट दूर हों ?

  1. मौनी अमावस्या की रात चंद्रमा की रोशनी के अभाव में कई लोग काले साये में तांत्रिक विद्या के प्रयोग से तंत्र-मंत्र द्वारा बुरी शक्तियों की पूजा करते हैं। रात के समय आपको बाहर खासकर सुनसान जगहों, कब्रिस्तान और श्मशानघाट जैसे स्थानों पर या उनके आप पास नहीं जाना चाहिए।
  2. इस पर्व के दिन दान-पुण्य का विशेष महत्व है इसलिए किसी  भी घर पर आए ज़रूरतमंद को खाली हाथ नहीं भेजना चाहिए। ग़रीबों की सहायता करने और उनको भोजन करवाने से शनि देव खुश होते हैं। इसलिए ग़रीबों को कंबल और वस्त्र आदि का दान देना चाहिए। इस दिन तिल दान करना उत्तम माना गया है।
  3. लोभ मोह का त्याग करके ही पूजा व अराधना करनी चाहिए। इस अमावस्या को मुनियों की अमावस्या माना जाता है। इसलिए ऋषियों की भांति ही हमें भी लोभ मोह से इस दिन दूरी बनाकर रखनी चाहिए। धोखा धड़ी और गलत कामों से बचना चाहिए इससे पड़ने वाला बुरा प्रभाव भी मौनी अमावस्या के दिन बढ़ जाता है।
  4. पितरों की पूजा का दिन मानी जाने वाली इस मौनी अमावस्या में कुत्ता, कौआ और गाय को भरपेट अपने हाथों से खिलाना चाहिए। हिंदु पुराणों और गरूड़पुराण में इनका सीधा संबंध पितरों से बताया गया है। इनको किसी भी प्रकार का कष्ट नहीं देना चाहिए।
  5. चंद्रमा के अभाव में इस दिन हमारा मन कमजोर स्थिति में होता है इसलिए हमें शांत रहना चाहिए। वाणी का प्रयोग केवल आवश्यकता अनुसार ही करना चाहिए। बुरे शब्दों और लड़ाई झगड़े से दूर रहना चाहिए क्योंकि मौन धारण करना इस व्रत का एक अहम हिस्सा है।
  6. यह पवित्र दिन पितरोें के साथ साथ भगवान विष्णु और शिव को भी समर्पित होता है। इसलिए इस दिन के लिए तामसिक भोजन को पूरी तरह से त्याग देना चाहिए। मौनी अमावस्या के दिन मांस-मदिरा का सेवन करना शनि देव को रुष्ट करने के समान है।
  7. वैवाहिक जीवन वालों को मन का संयम बना कर भगवान में ध्यान लगाना चाहिए और इस दिन यौन संबंध नहीं बनाने चाहिए। क्योंकि इस दिन को मुनियों की अमावस्या के रूप में मनाया जाता है। इस नियम के तोड़ने पर दोनों को कई कष्टों का सामना करना पड़ सकता है।

हिंदुओं के लिए मौनी अमावस्या का महत्व – मौनी अमावश्या 2022  

भारत में मौनी अमावस्या के दिन गंगा स्नान के लिए लगी भक्तों की भीड़ इसके महत्व को साफ-साफ दर्शाती है। इस दिन पितरों की पूजा से पितृ दोष खत्म हो जातें हैं और गंगा स्नान अमृत स्नान के समान हो जाता है। इसी के साथ इस दिन किए दान का सौ गुना फल मिलता है। पीपल के वृक्ष की पूजा के बाद वृक्ष की परिक्रमा की जाती है। प्राचीन ग्रंथों में लिखा है कि पीपल के पेड़ में करोड़ो देवी-देवताओं का वास होता है। इस पवित्र वृक्ष की पूजा से ब्रह्मा, विष्णु और महेश यानि भगवान शिव तीनों तृप्त हो जाते हैं।

सनातन धर्म में इस दिन सूर्य को जल चढ़ाया जाता है जिससे पितृ दोष समाप्त होता है। इसी के साथ गौ माता की सेवा की जाती है। मौनव्रत से नकारात्मक भावों को दूर किया जाता है। इस दिन सभी नदियों का जल गंगा जल के समान हो जाता है इसलिए भक्त आस पास की नहरों, नदियों और कुंडो आदि में नहाकर नए वस्त्र धारण करने के पश्चात ही पूजा में बैठते हैं।

हिंदु धर्म में मौनी अमावस्या के साथ साथ इस दिन किए गए दान का भी बहुत महत्व है। दूध देने वाली गाय का मौनी अमावस्या के दिन दान करना बहुत शुभ माना गया है। मौनी अमावस्या के व्रत को योग पर आधारित महाव्रत कहा जाता है। कार्तिक के समान पुण्य माने जाने वाले इस माह में यदि आप मौनी अमावस्या का व्रत नहीं रख पाते है तो आपको मीठा भोजन ग्रहण करना चाहिए। मौनी अमावस्या के दिन स्नान के बाद विधि विधान से पूजा और जप करके नियमों का पालन करते हुए मौनव्रत रखना चाहिए।

Read More

Latet Updates

x