Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
  • Home ›  
  • Shani Jayanti Kab Hai | शनि जयंती कब है, जन्म कथा, महत्व और पूजा-विधि

Shani Jayanti Kab Hai | शनि जयंती कब है, जन्म कथा, महत्व और पूजा-विधि

शनि जयंती
March 19, 2021

आइये जानते हैं शनि जयंती कब है, शनिदेव जन्म कथा, शनि जयंती का महत्व और शनि जयंती पूजा-विधि

शनि जयंती को भगवान शनि देव की पूजा-अर्चना के रूप में मनाया जाता है। शनि जयंती को शनि अमावस्या के नाम से भी कहा और जाना जाता है। शनिदेव को सूर्य का पुत्र माना जाता है। मान्यता है कि ज्येष्ठ माह की अमावस्या को ही सूर्यदेव एवं छाया (संवर्णा) की संतान के रूप में शनि का जन्म हुआ। शनि देव जिन्हें कर्मफलदाता माना जाता है। दंडाधिकारी कहा जाता है, न्यायप्रिय माना जाता है। जो अपनी दृष्टि से राजा को भी रंक बना सकते हैं। हिंदू धर्म में शनि देवता भी हैं और नवग्रहों में प्रमुख ग्रह भी जिन्हें ज्योतिषशास्त्र में बहुत अधिक महत्व मिला है।

यह जयंती वट सावित्री व्रत से मेल खाता है जो अधिकांश उत्तर भारतीय राज्यों में ज्येष्ठ अमावस्या के दौरान मनाया जाता है। शनि जयंती पर, भक्त भगवान शनि को प्रसन्न करने के लिए उपवास या व्रत रखते हैं और शनि मंदिरों में जाकर शनि देव से आशीर्वाद मांगते हैं। ऐसा माना जाता है कि भगवान शनि निष्पक्ष न्याय में विश्वास करते हैं और अगर उनसे आराधना की जाये है तो वह अपने भक्त को सौभाग्य और खुशहाली प्रदान करते हैं। जिनके पास भगवान शनि का आशीर्वाद नहीं है, वे जीवन में अपनी कड़ी मेहनत के बावजूद भी उनके प्रगति नहीं हो पाती।

इस  दिन शनि को प्रसन्न करने के लिए हवन, होम क्रिया और यज्ञ करने के लिए बहुत उपयुक्त दिन मन जाता है। शनि जयंती के दौरान किए जाने वाले सबसे महत्वपूर्ण समारोहों में शनि तैलाभिषेकम और शनि शांति पूजा शामिल हैं। कुंडली में साढ़े साती के नाम से प्रसिद्ध शनि दोष के प्रभाव को कम करने के लिए उपरोक्त समारोह किए जाते हैं। शनि जयंती को शनीचरा जयंती और शनि जयंती के रूप में भी जाना जाता है।

शनि जन्म कथा (Shani Janam Katha)

भगवान शनि के जन्म के संबंध में, एक पौराणिक कथा बहुत मान्य है जिसके अनुसार शनि सूर्य देव और उनकी पत्नी छाया के पुत्र हैं। कुछ समय बाद सूर्य देव की संज्ञा से शादी हुई, उन्हें तीन बच्चों के रूप में मनु, यम और यमुना मिली। इस तरह, संज्ञा ने कुछ समय के लिए सूर्य के साथ निर्वाह किया, लेकिन संज्ञा लंबे समय तक सूर्य के तेज को सहन नहीं कर पाई, उनके लिए सूर्य की महिमा को सहन करना मुश्किल हो रहा था। इस कारण से, संज्ञा ने अपने पति सूर्य देव की सेवा में अपनी छाया छोड़ दी और चली गई। कुछ समय बाद शनि देव का जन्म छाया के गर्भ से हुआ था।

शनि जयंती का महत्व (Shani Jayanti ka Mahatva)

इस दिन, प्रमुख शनि मंदिरों में भक्तों की भीड़ उमड़ती है। भारत में स्थित प्रमुख शनि मंदिरों में, भक्त शनि देव से संबंधित प्रार्थना करते हैं और शनि पीड़ा से मुक्ति के लिए प्रार्थना करते हैं। शनि देव को काले या कृष्ण वर्ण का कहा जाता है, इसलिए उन्हें काला रंग अधिक प्रिय है। शनि देव काले कपड़ों में सुंदर हैं। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, शनिदेव का जन्म ज्येष्ठ माह की अमावस्या तिथि को हुआ था। जन्म के समय से, शनि देव श्याम वर्ण, लंबे शरीर, बड़ी आँखें और बड़े बाल थे। वह न्याय के देवता हैं, एक योगी, तपस्या में लीन और हमेशा दूसरों की मदद करने वाले। शनि को न्याय का देवता कहा जाता है, यह सभी कार्यों का फल जीवों को देता है।

शनि जयंती कब है? (Shani Jayanti Kab Hai)

इस बार शनि जयंती 10 जून, 2021 को ज्येष्ठ अमावस्या को मनाई जाएगी। इस दिन, शनि देव की विशेष पूजा का विधान है। शनि देव को प्रसन्न करने के लिए कई मंत्र और भजन गाए जाते हैं। शनि हिंदू ज्योतिष में नौ मुख्य ग्रहों में से एक है। शनि अन्य ग्रहों की तुलना में धीमा चलता है, इसलिए इसे शनैश्चर भी कहा जाता है। पौराणिक कथाओं के अनुसार, शनि के जन्म के बारे में बहुत कुछ बताया गया है और ज्योतिष में, शनि के प्रभाव का एक स्पष्ट संकेत है। शनि ग्रह वायु तत्व का स्वामी और पश्चिम दिशा के स्वामी है। शास्त्रों के अनुसार शनि जयंती पर इनकी पूजा और आराधना करने से शनिदेव विशेष फल देते हैं।

शनि जयंती पूजा-विधि

इस अवसर पर, विधि विधान के आधार पर भगवान शनि के लिए पूजा पाठ और व्रत किया जाता है। शनि जयंती के दिन किया गया दान शुभ होता है और शनि से संबंधित सभी परेशानियों को दूर करने में मदद करता है। शनि देव की पूजा करने के लिए, भक्त को शनि जयंती के दिन सुबह जल्दी उठना चाहिए और शनि देव की लोहे की मूर्ति स्थापित करनी चाहिए, नवग्रहों को नमस्कार करना चाहिए और उन्हें सरसों या तिल के तेल से स्नान करना चाहिए और साथ ही षोडशोपचार की पूजा करनी चाहिए।

शनि मंत्र का जप करें: – ॐ शनिश्चराय नम:।।

इसके बाद पूजा सामग्री के साथ शनि देव से संबंधित वस्तुओं का दान करें। इस तरह पूजा के बाद पूरे दिन निर्जला रहें और मंत्र का जाप करें। शनिदेव की कृपा और शांति पाने के लिए तिल, उड़द, काली मिर्च, मूंगफली का तेल, अचार, लौंग, तेज पत्ता, और काले नमक का उपयोग करना चाहिए, शनि देव को प्रसन्न करने के लिए हनुमान जी की पूजा की जानी चाहिए। शनि जयंती पर जो वस्तुएं दान की जाती हैं, उनमें शनि के निमित्त काले कपड़े, जामुन, काले उड़द, काले जूते, तिल, लोहा, तेल, गेहू का आटा आदि का दान किया जा सकता है।

अन्य जानकारी

Latet Updates

x