Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Post Type Selectors
  • Home ›  
  • Rahu Dosha | जानें राहु-केतु क्या है और राहु दोष के उपचार

Rahu Dosha | जानें राहु-केतु क्या है और राहु दोष के उपचार

राहु दोष
September 27, 2021

Advertisements
Advertisements

जानियें राहु-केतु क्या है, राहु-केतु की कथा और राहु दोष के उपचार

राहु और केतु दोनों को छाया ग्रह माना जाता है। इन दोनों ग्रहों को ज्योतिष की दुनिया में पापी ग्रह भी कहा जाता है। हालांकि वे स्वतंत्र रूप से अपना प्रभाव नहीं दिखाते हैं। ये दोनों गृह जिस भी ग्रह के साथ होते हैं उसके अनुसार फल प्रदान करते हैं। ऐसा नहीं है कि राहु और केतु हमेशा अशुभ फल देते हैं। जब कुंडली के तीसरे, छठे और ग्यारहवें भाव में राहु होता है, तो वह शुभ फल देता है। राहु और केतु, यदि किसी व्यक्ति की कुंडली में हो, तो यह जातक के लिए बहुत परेशानी वाला होता है। जानियें राहु ग्रह की स्थिति और महादशा को शांत करने के कारगर उपाय।

राहु-केतु की कथा (Rahu-Ketu Katha)

राहु-केतु के संबंध में, पुराणों में एक कथा है कि राक्षसों और देवताओं के संयुक्त प्रयास के कारण समुद्र के मंथन से निकले अमृत के वितरण के समय, एक दानव अपना रूप बदलकर देवताओ की पंक्ति में मिल गया और अमृत मंथन से निकले अमृत का सेवन कर लिया। जब सूर्य और चंद्र देव को उस दानव के बारे में पता चला, तो उन्होंने कहा कि यह एक दानव है और तब भगवान विष्णु ने अपने चक्र से उस दानव का शीर्ष काट दिया। अमृत का सेवन करने के कारण, उस दानव के दोनों शरीर के अंग बच गए और सिर का ऊपरी हिस्सा राहु और धड़ के निचले हिस्से केतु के रूप में प्रसिद्ध हो गया।

राहु और केतु

राहु की प्रतिगामी दृष्टि मनुष्य को खतरे में डालती है। ऐसी स्थिति में इंसान की बुद्धि और बुद्धिमत्ता ख़त्म हो जाती है और व्यक्ति उल्टे सीधे फैसले लेने लगता है। राहु पौराणिक संदर्भों से गद्दारों, ड्रग डीलरों, जहर व्यापारियों, निष्ठा और अनैतिक कार्यों आदि का प्रतीक रहा है। यह गैर-जिम्मेदार व्यक्ति, निर्वासित, कठोर बोलने वाले, झूठ बोलने वाले, शोक करने वाले लोगों का प्रतीक भी रहा है। इसके कारण पेट में अल्सर, हड्डियां और आधान की समस्याएं होती हैं। राहु व्यक्ति की ऊर्जावर्धक में काफी मदद करता है, जिससे दुश्मनों से मित्रता हो जाती है।

उसी तरह, केतु बुर आध्यात्मिकता और पारंपरिक प्रभावों के कर्मियों के एक संग्रह का प्रतीक है। राहु और केतु मिलकर कुंडली में काल सर्प योग बनाते हैं। केतु स्वभाव से एक क्रूर ग्रह है और इस ग्रह को तर्क, बुद्धि, ज्ञान, वैराग्य, कल्पना, अंतर्दृष्टि, मर्मज्ञ अशांति और अन्य मानसिक गुणों का कारक माना जाता है। एक अच्छी स्थिति में, जहां यह मूल निवासी को इन क्षेत्रों में लाभ देता है, तो एक बुरी स्थिति में, इसका नुकसान भी होता है।

राहु दोष के उपचार

राहु और केतु की अशुभ स्थिति से बचने के लिए यदि शुरुआत में ही कोई उपाय कर लिया जाए तो बहुत बड़े नुकसान से बचा जा सकता है। आइए, जानते हैं कि कोई व्यक्ति अपने प्रभावों से कैसे बच सकता है।

  • इस मंत्र का जप नियमित रूप से तब करना चाहिए जब राहु गृह, दशा और महादशा में हो। इस मंत्र का जप करने से राहु दशा के कष्ट दूर    होते हैं।मंत्र : ॐ भ्रां भ्रीं भ्रौं सः राहवे नमः।
  • भगवान शिव जी की पूजा-आराधना से भी राहु का प्रकोप कम होता है, इसलिए शिवलिंग पर जल चढ़ाएं और सोमवार का व्रत रखें साथ ही ओम नमः शिवाय मंत्र ’का जप करें।
  • हर शनिवार को, एक मोटी रोटी बनाएं, इस रोटी पर सरसों का तेल लगाकर इसे एक काले कुत्ते को खिलाएं। इस उपाय के करने से राहु-केतु और शनि दोष सभी शांत हो जाते हैं।
  • जब राहु की दशा अधिक हो, तो आपको अधिकतम दान करना चाहिए जैसे की किसी भूखे को खाना खिलाना, कौए को मीठा खिलाना, और ब्राह्मण को भोजन कराना चाहिए। प्रतिदिन सुबह पक्षियों को बाजरा और काले तिल दोनों मिलाकर खिलाएं।
  • राहू की दशा में रात को अपने सिरहाने जौं रखकर सोना चाहिए और सुबह इस जौं को दान कर देना चाहिए।
  • आपको शनिवार को किसी गरीब व्यक्ति को अपने इस्तेमाल किए हुए कपड़े दान करने चाहिए।
  • राहू की दशा और महादशा में प्रतिदिन सुबह दो रोटी व थोडा मीठा गाय को खिलाये।
  • सात प्रकार के अनाज को मिलाएं और कुल वजन 7.25 किलोग्राम कर लें। अब इसमें थोड़ा सा तेल मिलाएं और अपने ऊपर से सात बार वार लें। अब गुरुवार के दिन से शुरू करें और एक ही मात्रा में लगातार किसी बिजार (गाय की नर प्रजाति) को खिलाएं।
  • मंत्र साधना करने से भी राहु प्रसन्न होते हैं और राहु से संबंधित सभी परेशानियां दूर होती हैं।राहू मंत्र || ॐ भ्रां भ्रीं भ्रौं सः राहवे नमः ||
  • रविवार को भगवान भैरव के मंदिर में शराब चढ़ाये और तेल का दीपक जलाये।
  • यदि आपकी दशा राहु कुंडली में है तो शराब का सेवन आपकी समस्याओं को और भी अधिक बढ़ा सकता है। इसलिए शराब सेवन करना बिल्कुल बंद कर दें।

अन्य जानकारी

Latet Updates

x