Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Post Type Selectors
  • Home ›  
  • Shri Diggi Kalyan Ji Mandir | श्री डिग्गी कल्याण जी मन्दिर राजस्थान

Shri Diggi Kalyan Ji Mandir | श्री डिग्गी कल्याण जी मन्दिर राजस्थान

Shri Diggi Kalyan Ji Mandir
January 24, 2023

Advertisements
Advertisements

श्री डिग्गी कल्याण जी मन्दिर – Shri Diggi Kalyan Ji Mandir 

Shri Diggi Kalyan Ji Mandir – राजस्थान जिले के टोंक जिले के डिग्गी गांव में स्थित डिग्गी कल्याण जी मंदिर श्री कल्याण जी को समर्पित है। जो भगवान विष्णु के अवतार माने जाते है।ऐसा माना जाता है। कि इस मंदिर का निर्माण 5600 साल पहले राजा दिगवा ने करवाया था। हिंदू मान्यता के अनुसार राजा को उर्वशी नाम की एक अप्सरा ने श्राप दिया था और वह कोढ़ी बन गया था।

जब भगवान इंद्र की अप्सरा उर्वशी राजा इंद्र के दरबार में नृत्य कर रही थीं तो वह इंद्र को देखकर हंसने लगीं। इससे आहात होकर  भगवान इंद्र  ने उसे श्राप दे दिया और उसे 12 वर्ष के लिए राज्य से बाहर निकाल दिया। जब उसने पश्चाताप किया तो भगवान इंद्र  ने उसे मृत्युलोक जाने को कहा। वहां उसने संतों की सेवा की और इनाम में आशीर्वाद अर्जित किया। 12 वर्ष के अंत में राजा दिग्वा ने उसे बगीचे में देखा। उसकी सुंदरता से प्रभावित होकर उसने उसे अपने साथ अपने महल चलने का आग्रह किया।

Shri Diggi Kalyan Ji Mandir –  अप्सरा उर्वशी ने  इंकार कर दिया और राजा दिग्वा से कहा कि वह इंद्र के दरबार से संबंधित है। दिग्वा ने इंद्र को अपने साथ युद्ध करने के लिए आमंत्रित भी किया लेकिन साल बीत गए और कोई नहीं जीता। आखिरकार दिग्वा ने धोखा दिया और जीत हासिल की। राजा दिग्वा द्वारा अनुचित साधनों का उपयोग करने के बारे में जानने पर उर्वशी ने उन्हें कुष्ठ रोग से पीड़ित होने का श्राप दे दिया। श्राप के बाद दिग्वा ने इलाज के लिए भगवान श्री विष्णु का  ध्यान किया और परिणामस्वरूप भगवान श्रीविष्णु ने उन्हें आशीर्वाद दिया। भगवान श्री विष्णु ने राजा दिग्वा से कहा कि कुछ समय पश्चात उनकी मूर्ति समुद्र में बहकर आएगी जिसके दर्शन मात्र से आपके कुष्ठ रोग सदा सदा  के लिए समाप्त हो जाएगा। और जिसे उनके द्वारा डिग्गी में स्थापित किया गया माना जाता है। और अब इसे डिग्गी कल्याण के रूप में भी जाना जाता है। मंदिर तक SH-12 के माध्यम से पहुंचा जा सकता है जो जयपुर जिले से उत्तर-दक्षिण में टोंक जिले तक चलता है और SH-12 से 3.5 किमी की दूरी पर है। डिग्गी-तिबारा रोड, डिग्गी-कुरथल रोड और डिग्गी मालपुरा रोड भी डिग्गी गांव की ओर ही जाता है। मंदिर डिग्गी-तिबारा रोड और डिग्गी-कुरथल रोड के बीच और दक्षिण पश्चिम में स्थित है 

8वीं शताब्दी के दौरान, मुख्य मंदिर और उसके आसपास के प्रांगण के पीछे कुआं मौजूद था। जबकि 18वीं शताब्दी के आगमन के बाद मंदिर चारों ओर से घिरा हुआ था।

Shri Diggi Kalyan Ji Mandir – इसके प्रांगण का विस्तार पीछे की ओर छतरी के योग से पंगत क्षेत्र कहा जाता है। 19वीं शताब्दी में, मंदिर की संरचना में बरामदे के साथ पश्चिम दिशा में रसोईघर और भगवान और देवी-देवताओं के अन्य मंदिरों की उपस्थिति का अनुभव हुआ। निर्माण का अंतिम चरण जो 20वीं शताब्दी के दौरान हुआ था। मंदिर के पूर्व में स्टोर रूम, दक्षिण में भगवान के अन्य मंदिर, मंदिर के उत्तर में शौचालय और अन्य छोटे मंदिर भी शामिल थे।

श्री कल्याण जी का मंदिर कहां स्थित है 

 

 

 

Shri Diggi Kalyan Ji Mandir – आइए जानते हैं डिग्गी कल्याण जी का मंदिर राजस्थान में कहां है तो हम आपको बता दें डिग्गी कल्याण जी का मंदिर राजस्थान के टोंक जिले में है। जो जयपुर से 75 किलोमीटर दूर स्थित है और डिग्गी कल्याण जी का मंदिर टोंक जिले में टोंक से 65 किलोमीटर की दूरी पर कल्याण जी का मंदिर है। तथा  हिंदू मान्यताओं के अनुसार माने तो मंदिर की स्थापना से पहले की कथाएं जुड़ी हुई है। डिग्गी कल्याण जी के मेले के अवसर पर जिला प्रशासन की ओर से अवकाश भी घोषित किया जाता है। डिग्गी कल्याण जी का मेला जलझूलनी एकादशी को भरा जाता है। और इसके अलावा पूर्णिमा और अमावस्या  को भी मेला लगता है।  डिग्गी कल्याण जी का मंदिर पूरे भारतवर्ष में प्रसिद्ध मंदिरों में से एक मंदिर है डिग्गी कल्याण जी के मंदिर का निर्माण तिवारी ब्राह्मणों के द्वारा किया  गया था। डिग्गी कल्याण जी के मंदिर में जो मुख्य मूर्ति प्रतिष्ठित है वह एक चतुर्भुज रूप में है। 

डिग्गी कल्याण जी का मेला या लक्खी मेला 

 

डिग्गी कल्याण जी का मेला
डिग्गी कल्याण जी का मेला

Shri Diggi Kalyan Ji Mandir – जैसा की आप सभी को पता है हर साल डिग्गी कल्याण जी के यहां मेला लगता है।  इस बार फिर जयपुर से डिग्गी पुरी कल्याण धणी के जयकारे एक बार फिर से सुनने को मिलेंगे।  जयपुर से डिग्गी कल्याण जी तक लाखों भक्तों का सैलाब इस बार से नजर आएगा।  हजारों लाखों श्रद्धालु पैदल चलकर श्री कल्याण जी महाराज के यहां हाजिरी लगाएंगे।

श्री कल्याण जी के लिए लक्खी पदयात्रा का आरंभ 3 अगस्त 2023 से शुरू हो रहा है जोकि 7 अगस्त तक लगातार चलेगा हजारों श्रद्धालु विभिन्न विभिन्न मार्गो से होते हुए डिग्गी कल्याण जी के दर्शन करने हेतु मंदिर प्रांगण में पहुंचेंगे और वही डिग्गी कल्याण जी महाराज का लक्की मेला 3 अगस्त 2023 से शुरू हो जाएगा जोकि एकादशी तक चलेगा इसी बीच लाखो हजारों भक्तों श्री कल्याण जी महाराज को आस्था पूर्वक ध्वज और श्रद्धा अर्पित करेंगे। 

Shri Diggi Kalyan Ji Mandir – डिग्गी श्री कल्याण जी पदयात्रा के संघ अध्यक्ष श्री जयप्रकाश शर्मा ने बताया कि डिग्गी श्री कल्याण जी महाराज की 57 वीं लक्की पदयात्रा 3 अगस्त से प्रारंभ होगी जोकि चौड़ा रास्ता स्थित ताड़केश्वर महादेव मंदिर से रवाना होगी। भक्तगण 3 अगस्त को मदरामपुरा के बालाजी, 4 अगस्त को हरसुलिया, 5 अगस्त को फागी और 6 अगस्त को चौसला  में भक्तगण रात्रि विश्राम करते हुए सागर 7 अगस्त को श्री कल्याण जी महाराज के दर्शन हेतु पहुंचेंगे इसी बीच जगह जगह भजन कीर्तन और जागरण का आयोजन होता रहेगा। 

Shri Diggi Kalyan Ji Mandir – डिग्गी श्री कल्याण जी महाराज का लक्खी मेला श्रावण शुल्क षष्ठी को  3 अगस्त को आरंभ होगा जोकि एकादशी तक चलेगा। मंदिर ट्रस्ट की ओर से जानकारी दी गई है की 3 अगस्त से शुरू हो रहे लक्खी मेला  षष्ठी से लेकर अष्टमी तक मुख्य मेले का आयोजन होगा। इस बीच  लाखों भक्तजन पैदल यात्रा करते हुए श्री कल्याण जी डिग्गी पहुंचेंगे। जानकारी के अनुसार पदयात्रा जयपुर से आरंभ होगी और भक्तजन पद यात्रियों के साथ बीच-बीच में जुड़ते जाएंगे। उन्होंने बताया कि भक्तगण एकादशी पर श्री कल्याण जी महाराज को ध्वज अर्पण करके मेले का समापन करेंगे। 

 

Latet Updates

x