Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
  • Home ›  
  • Sawan ka Pehla Somvar | सावन का पहला सोमवार कब है , जानिए सम्पूर्ण पूजा विधि

Sawan ka Pehla Somvar | सावन का पहला सोमवार कब है , जानिए सम्पूर्ण पूजा विधि

सावन का पहला सोमवार 2021
July 14, 2021

जानिए कब है सावन का पहला सोमवार कब है और इसे कैसे मनाया जाये।

जैसा कि हम सब जानते हैं सावन के महीने का इंतजार सभी को रहता है क्योंकि इस पावन महीने में व्रत त्योहार एवं आस्था चरम सीमा पर रहती है।  साल 2021 में सावन  का पहला सोमवार 26 जुलाई 2021 को शुरू होगा। यह दिन सभी शिव भक्तों की मनोकामना पूर्ण करने वाला दिन होगा क्योंकि कहा जाता है कि सावन के प्रथम सोमवार का महत्व साक्षात शिव की सेवा के समान है। इस दिन भक्त पूजा करते है शिव जी के भजन सुनते है और भक्ति में लीन रहते है।  

सावन का पहला सोमवार – सम्पूर्ण जानकारी

दिनांक 

तिथि 

सूर्योदय 

वार 

पक्ष 

26 जुलाई 2021 

तृतीया 

05:38 सुबह  

सोमवार 

कृष्ण पक्ष 

 

शिव भक्त इस पावन महीने को पर्व के रूप में मनाते हैं। महादेव के विभिन्न प्रकार के रूपों का वर्णन करते हुए कहा गया है कि सावन का महीना बड़ा मन मोहित होता है और सेवा के लिए उत्तम महीना होता है। 

 

 सावन का पहला सोमवार व्रत कैसे करें

 

भक्तों प्रभु की सेवा किस प्रकार की जाए इसका वर्णन किसी भी कथा किताब और प्रवचन में स्पष्ट नहीं है। प्रभु सेवा का भाव देखते हैं ना की सेवा की विधि,  परंतु हिंदू धर्म में किसी भी शुभ कार्य को एवं पूजा-पाठ को विधिपूर्वक करना बताया गया है।  इस कारणवश हम आपको शिव की पूजा की सही विधि बताने जा रहे हैं

 

  • सर्वप्रथम एक लोटा जल में कच्चा दूध डालने एवं पूजन सामग्री की थाली तैयार कर लें।  
  •  पूजन सामग्री में बिलपत्र, फूलों की माला, कंदमूल, आंकड़े के फूल, चंदन, रोली, मौली, नारियल, चावल एवं प्रसाद लेवे
  •  सर्वप्रथम महादेव के सामने आसन लगाकर बैठे और शिवलिंग पर जल चढ़ाएं तत्पश्चात सभी पूजन सामग्री को ईश्वर के चरणों में रख  देवे
  •  चंदन से शिवलिंग पर ओम नमः शिवाय लिखें
  •  ईश्वर को प्रसाद चढ़ाएं एवं एक घी का दीपक जरूर करें
  •  108 बार ओम नमः शिवाय का जप करें
  •  जब करने के बाद ईश्वर से अपनी मनोकामना पूर्ण करने की प्रार्थना करें और नतमस्तक होकर प्रभु का आशीर्वाद लें
  •  आप सावन के सोमवार के दिन व्रत भी रख सकते हैं,  यह भक्तों की स्वेच्छा  पर निर्भर है

Latet Updates

x