Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Post Type Selectors
  • Home ›  
  • आइये जानते है राहु ग्रह के अचूक उपाय | Rahu Grah Ke Upay 

आइये जानते है राहु ग्रह के अचूक उपाय | Rahu Grah Ke Upay 

Rahu Grah Ke Upay
January 19, 2023

Advertisements
Advertisements

राहु ग्रह के उपाय – Rahu Grah Ke Upay 

Rahu Grah Ke Upay 

Rahu Grah Ke Upay – यदि किसी व्यक्ति की कुंडली में राहु-केतु दोष का होता है। तो उस व्यक्ति के जीवन में अनेको प्रकार की समस्याएं उत्पन्न हो जाती है। राहु और केतु को छाया ग्रह भी कहा जाता है। ऐसा माना जाता है। कि जब किसी व्यक्ति की कुंडली राहु केतु की छाया होने पर उस व्यक्ति के बनते काम भी बिगड़ने लग जाते हैं। इसके साथ ही यदि व्यक्ति का राहु कमजोर स्थिति में है। या फिर विवाह के घर में विराजमान हो जाता है। तब उस व्यक्ति के विवाह में देरी भी हो सकती है। हमारे ज्योतिष शास्त्र में राहु ग्रह के दोष को नष्ट करने के कई प्रकार के उपाय बताए गए हैं। तो आइये आज हम जानेंगे 9 अचूक उपायों के बारे में। 

Rahu Grah Ke Upay 

राहु ग्रह के 9 अचूक उपाय 

  1. यदि आपके जन्मांक में राहु, चंद्र, सूर्य को दूषित कर रहा है। तो उस व्यक्ति को भगवान शिव की श्रद्धा भाव से पूजा-अर्चना करनी चाहिए।
  2. यदि आप सोमवार के दिन व्रत/उपवास करते है। तो ऐसा करने से भी भगवान शिव प्रसन्न हो जाते हैं। अतः आप सोमवार को पूजा-अर्चना व्रत करने के पश्चात, शाम को भगवान शिव को दीपक लगाने के बाद सफेद भोजन जैसे खीर, मावे आदि की मिठाई, दूध से बने पदार्थ को ही ग्रहण करना चाहिए।ऐसा करने से भी भगवान भोलेनाथ प्रसन्न होते है। 
  3. भगवान भोलेनाथ अपने भक्तो के द्वारा की गई पवित्र और श्रद्धा पूर्ण पूजा-आराधना से अतिशीघ्र प्रसन्न होने वाले देव कहलाते है।
  4. बगैर ढोंग एवं दिखावे के हमे निर्मल हृदय से और सच्ची आस्था के साथ भगवान भोलेनाथ का स्मरण अवश्य करना चाहिए।
  5. राहु महादशा में सूर्य, चंद्र एवं मंगल का अंतर बहुत ही कष्टकारी होता है।  समयावधि में हमे नित्य प्रतिदिन भगवान शिव को बिल्व पत्र चढ़ाकर एवं दुग्धाभिषेक भी करना चाहिए।
  6. व्यक्ति को शिव साहित्य जैसे- शिवपुराण का नित्य पाठ अवश्य करना चाहिए।
  7. व्यक्ति को ‘ॐ नमः शिवाय’ मंत्र का नाम जाप लगातार ही करते रहना चाहिए।ऐसा करें से भगवान् भोलेनाथ जल्दी प्रसन्न होते है। 
  8. राहु की महादशा व्यक्ति के लिए बहुत कष्टकारी हों तब हमे भगवान शिव का अभिषेक भी करवाना चाहिए।ऐसा करने से भी भगवान् शिव का आशीर्वाद हमे प्राप्त होता है। 
  9. भगवान भोलेनाथ की भगवान् श्रीराम के प्रति परम आस्था है। अतः आप राम नाम का स्मरण करके भी राहु के दुष्प्रभाव से मुक्ति पा सकते है।  

राहु ग्रह के नारात्मक प्रभाव 

Rahu Grah Ke Upay – क्या आप जानते है की काला जादू, तंत्र, टोना, आदि राहु ग्रह स्वंम अपने प्रभाव से ही करवाता है। मनुष्य के जीवन में अचानक घटनाओं का घटना  इस प्रकार के योग राहु के वजह से ही होते हैं। राहु हमारे जीवन में उस ज्ञान का भी कारक है। जो की  बुद्धि के बावजूद पैदा होता है। जैसे अचानक किसी घटना को देखकर कोई आइडिया (विचार) का आ जाना या फिर अचानक उत्तेजित हो जाना आदि, ये स्वप्न के आने का कारक भी है। भयभीत कर देने वाले स्वप्न का आना या अचानक चमक कर नींद से उठ जाना भी राहु के दुष्प्रभाव के लक्षण माने जाते हैं।

Rahu Grah Ke Upay – यदि आपका अचानक से शरीर अकड़ने लगजाए या फिर दिमाग में अनावश्यक तनाव से घिरने लग जाए और घबराहट जैसा भी होने लगे तो इन सभी का कारक भी राहु ही है। वैराग्य का भाव या मानसिक विक्षिप्तता भी राहु के कारण ही उत्पन्न होता  हैं। बिना किसी कारण के दुश्मनो का पैदा होना। बेईमानी करना या धोखेबाज बन जाना,अति संभोग करना या फिर सिर में कोई चोट का लग जाना आदि सभी राहु के अशुभ होने के संकेत है।

Rahu Grah Ke Upay 

राहु ग्रह के सकारात्मक प्रभाव 

Rahu Grah Ke Upay – जिस व्यक्ति की कुंडली में राहु प्रबल हो तो वह व्यक्ति दौलतमंद भी होगा। उसकी कल्पना शक्ति भी तेज होगी। व्यक्ति की कुंडली में राहु के अच्छा होने से उस व्यक्ति में श्रेष्ठ साहित्यकार, दार्शनिक, वैज्ञानिक या फिर रहस्यमय विद्याओं के गुणों का भी अधिक विकास होता है।राहु के प्रबल होने का दूसरा पक्ष यह भी है कि इससे से राजयोग भी फलित हो जाता है। अधिकतर पुलिस या प्रशासन में प्रबल राहु के लोग ज्यादा होते हैं।

Rahu Grah Ke Upay 

 

Latet Updates

x