Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
  • Home ›  
  • Gemstone | जाने रत्न क्या है, रत्नो का महत्व और सभी रत्नो के लाभ

Gemstone | जाने रत्न क्या है, रत्नो का महत्व और सभी रत्नो के लाभ

रत्नो के लाभ
March 11, 2021

आइये जानते है की रत्न क्या है, रत्नो का महत्व और सभी लोकप्रिय नौ रत्नो के लाभ

रत्न क्या है (Ratna Kya Hai)

जब रासायनिक तत्व एक दूसरे से रासायनिक प्रक्रिया के माध्यम से जुड़ते हैं तो रत्न बनते हैं। जैसे कि स्फटिक, माणिक, क्रिस्टल आदि। इस रासायनिक प्रक्रिया के बाद, तत्व एक साथ मिलकर एक अद्वितीय प्रकार के चमकदार संदूषित पत्थर बनते हैं और कई अद्भुत गुणों का प्रभाव उनमें समायोजित हो जाता है। इस निर्मित तत्व को रत्न कहा जाता है, जो अपने रंग, रूप और गुणों के कारण मनुष्यों को आकर्षित करता है। रत्नों की उत्पत्ति के बारे में एक अन्य कथा भी ग्रंथों में उल्लेख है।

जब देवताओं और राक्षसों ने समुद्र मंथन किया, तो उसमें से 14 रत्न निकले। देवता और दानवों के बीच उस अमृत को लेकर संघर्ष हुआ । अमृत का स्वर्ण कलश असुरराज लेकर भाग गया। इस छीना-झपटी में अमृत की कुछ बूंदें निचे की और गिर गयी और जहां-जहां गिरीं वहां सूर्य की किरणों के कारण वह बूंदें सुखकर अलग-अलग प्रकार के रत्नों में परिवर्तित हो गयी। रत्न को अस्सी माने गए है। नौ प्रमुख रत्न और शेष को उपरत्न माने जाते है।

रत्नों 3 प्रकार के होते है जो निम्नलिखित है :-

1, प्राणीज

2, वनस्पति

3, खनिज

रत्नो का महत्व (Ratna Ka Mahatva)

ज्योतिष की दुनिया में रत्नों का भी एक अलग महत्व है। कई ज्योतिष का मानना है कि रत्न पहनने से, कुंडली के कई दोष का निवारण हो सकता है, दूसरी ओर यदि आप आपकी कुंडली में खराब ग्रहों की स्थिति के कारण भविष्य में बुरे परिणाम भुगतने जा रहे हैं, तो रत्न की सहायता से उनके प्रभाव में थोड़ी कमी आ सकती है और तथा दोष का पूरी तरह निवारण भी हो सकता है। वैदिक ज्योतिष में उपलब्ध अन्य उपायों की तुलना में, रत्न काम को अधिक तेज़ी से करने में सक्षम हैं, जिसके कारण सामान्य जनता रत्न पहनने की ओर बढ़ती जा रही है। हालांकि, वैदिक ज्योतिष इन नवग्रहों से संबंधित रत्न पहनने का सुझाव ही देता है। आइए पहले हम रत्नों के कार्यप्रणाली पर एक नज़र डालें।

प्रत्येक रत्न अपनी ऊपरी सतह से किसी विशेष ग्रह की ऊर्जा तरंगों को आकर्षित करता है और यह इन ऊर्जा तरंगों को अपनी निचली सतह से रत्न धारण करने वाले व्यक्ति के शरीर में स्थानांतरित करता है। किसी भी नवग्रह से किसी विशेष ग्रह की ऊर्जा को आकर्षित करने के लिए, एक रत्न में उस ऊर्जा की एक विशिष्ट तरंग दैर्ध्य को आकर्षित करने की क्षमता होनी चाहिए। इसके अलावा, रत्न में इस ऊर्जा को थोड़े समय के लिए रखने और इस ऊर्जा को स्थानांतरित करने की क्षमता भी होनी चाहिए, जिसके कारण यह रत्न किसी विशेष ग्रह की ऊर्जा को आकर्षित कर सकता है और इसे रत्न के शरीर में स्थानांतरित कर सकता है।

रत्नो के लाभ

रत्न प्रकृति द्वारा दिए गए कई अनमोल उपहारों में से एक हैं, इनसे निकलने वाली ऊर्जा हमारे जीवन को बहुत प्रभावित करती है। हमारे शरीर में मौजूद ओरा, रंगों से बहुत अधिक प्रभावित होती है और इन रंगों का हमारे जीवन पर बहुत प्रभाव पड़ता है। सभी रत्नों का रंग का एक सामान नहीं होता है जैसे कुछ गहरे होते है, कुछ हलके और इसके अलावा कुछ पारदर्शी और अपारदर्शी होते है।

ग्रहों की दशा के लिए लाभदायक – रत्न के लाभ न केवल खराब ग्रहों की स्थिति के कारण भविष्य के परिणामों को रोकने में हैं, बल्कि ये रत्न आपके स्वास्थ्य को भी प्रभावित करते हैं।

स्वास्थ्य के लिए लाभदायक – हालाँकि कई बार आपके परिवार के सदस्यों या कुछ ज्योतिषियों ने आपको रत्न पहनने की सलाह दी होगी, यदि आप स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं का सामना कर रहे हैं, तो अब उनके सुझावों और सलाह का पालन करने का समय है, क्योंकि उनके सुझाव आपके स्वस्थ जीवन से जुड़ी कई समस्याओं का हल बन सकते हैं।

कई प्रकार के रत्न होते हैं, लेकिन उनमें से नौ हैं जो बहुत लोकप्रिय हैं, और आमतौर पर, लोग उन्हें अपने जीवन की समस्याओं को दूर करने और खुशहाली लाने के लिए उपयोग करते हैं। ज्योतिष भी कुंडली में ग्रहों की स्थिति को देखकर रत्न पहनने का सुझाव देते हैं। आइए जानते हैं कि कौन से ऐसे नवरत्न हैं जिन्हें सबसे अधिक महत्व दिया गया है।

नीलम रत्न धारण करने के लाभ

इसे पहनने वाले लोगों को धन-संपत्ति और जमीन जायदाद में काफ़ी लाभ होता है। इसके अलावा, जो लोग बहुत खर्चीली हैं, उनके खर्च में काफी कमी आती है।

मानिक  / माणिक रत्न धारण करने के लाभ

इस रत्न का मानव स्वास्थ्य पर बहुत प्रभाव पड़ता है, इसे पहनने वाला व्यक्ति स्वस्थ और लंबा जीवन जीता है। यह उन लोगों के लिए भी फायदेमंद है जिन्हें रक्त संबंधी बीमारियाँ हैं। यह आत्मविश्वास और मनोबल को बढ़ाकर व्यक्ति के अंदर नेतृत्व गुणों को स्थापित करने के लिए बहुत उपयोगी है। यह रत्न तांबे में पहना जाता है।

मोती धारण करने के लाभ

लेखक, चित्रकार, कवि, संगीतकार, कलाकार आदि के लिए यह रत्न पहनना उचित माना जाता है। यह एक व्यक्ति की शारीरिक शक्ति को भी बढ़ाता है और जो लोग बहुत क्रोधित होते हैं उन्हें इसे पहनना चाहिए क्योंकि यह अपने प्राकृतिक रूप से ठंडे होने के कारण ठंडे प्रकृति का होता है। इसे चांदी में पहना जाता है।

पन्ना रत्न धारण करने के लाभ

पन्ना रत्न उन लोगों के लिए फायदेमंद है, जिन्हें नर्वस सिस्टम के रोग हैं। यह याददाश्त बढ़ाने और इसे बेहतर बनाने में बहुत मदद करता है। इसके अलावा, यदि कोई व्यक्ति अपने वाणी में सुधार करना चाहता है, तो वह भी इस को पहन सकता है। यह बीमा एजेंट, सेल्समैन, राजनेताओं, व्यापारियों आदि को अधिक लाभ देता है और इसे सोने या चांदी में पहना जाता है।

गोमेद रत्न धारण करने के लाभ

जो लोग भूत-प्रेत से परेशान हैं और इस का इस्तेमाल करते हैं वह अपने शत्रु और इस समस्या पर विजय हासिल कर सकते है। कालसर्प से पीड़ित लोगों को इसे अवश्य धारण करना चाहिए।

हीरा रत्न धारण करने के लाभ

यह रत्न व्यापारियों, कलाकारों आदि के साथ लोगों को बहुत सारे लाभ देता है, यह जीवन में खुशी और आनंद लाता है। इसे पहनने से उम्र भी बढ़ती है। इसे प्लैटिनम या सोने में पहना जाता है।

पुखराज धारण करने के लाभ

यह मन को भीतर से शांति देता है और मन को अध्यात्म में लगाने में भी मदद करता है। पुखराज पहनने से शिक्षक और विद्यार्थी को शुभ फल मिलते हैं। इसके अलावा यह संपत्ति बढ़ाने में भी फायदेमंद है। इसे सोने में पहना जाता है।

मूंगा धारण करने के लाभ

जिन लोगों की प्रकृति बुज़दिल या ठंडी होती है उन्हें इसका विशेष लाभ मिलता है। जो लोग साहसी कार्य करते हैं जैसे पुलिस, बचाव बल, सैनिक, पायलट आदि। यह व्यक्ति के अधिकारों और सम्मान को प्रभावी ढंग से बढ़ाता है। इसे तांबे या सोने की धातु में पहना जाता है।

ओपल धारण करने के लाभ

ओपल आंखों से संबंधित बीमारियों, मानसिक तनाव, उदासीनता, आलस्य, लाल रक्त कोशिकाओं से संबंधित बीमारियों से छुटकारा दिलाता है। यह शारीरिक स्वास्थ्य भी प्रदान करता है। यह आपके शरीर के हार्मोनल स्राव के संतुलन को बनाए रखने में मदद करता है।

अन्य जानकारी

 

Latet Updates

x