Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Post Type Selectors
  • Home ›  
  • Chandra Darshan | चंद्र दर्शन क्या है,चंद्र दर्शन के अनुष्ठान,महत्व,लाभ,

Chandra Darshan | चंद्र दर्शन क्या है,चंद्र दर्शन के अनुष्ठान,महत्व,लाभ,

Chandra Darshan 2022
October 19, 2022

चंद्र दर्शन क्या है – Chandra Darshan Kya Hai 

चंद्र दर्शन को हिंदू धर्म में एक सौभाग्यशाली रात के रूप में माना जाता है जो रीति रिवाज के अनुसार हर महीने में एक बार होती है| चन्द्र दर्शन उस समय किया जाता है जब अमावश्या के बाद जब पहली बार चंद्रमा दिखाई देता है। यह भारत देश के लगभग सभी हिस्से में बहुत श्रद्धा और उमंग के साथ मनाऐ जानी वाली रात है।

Chandra Darshan – हिंदू रीति रीवाजो की मान्यताओं के अनुसार,यह दिन अधिक धार्मिक महत्व रखता है। भक्त इस दिन भगवान चंद्र देव की पूजा करते हैं और व्रत/उपवास भी रखते हैं और चंद्र देवता की विशेष पूजा भी करते हैं। इस विशेष दिन पर चंद्रमा को देखना  बहुत भाग्यशाली और समृद्ध माना जाने का प्रचलन है। चंद्र देव के सम्मान में, चंद्र दर्शन पर्व मनाया जाता है।

सूर्यास्त होने के ठीक बाद के समय निकलते हुए चन्द्रमा को देखने के लिए या चंद्र दर्शन के लिए सबसे उपयुक्त समय माना जाता है।घडी चौखडिये की जांच भी जरूर करले।  चन्द्र दर्शन के लिए एक उचित समय भी निर्धारित किया जाता है। 

ऐसा माना जाता है कि सभी अनुष्ठान समृद्धि और अपार खुशी लाते हैं क्योंकि यह भी माना जाता है कि जब चंद्र देवता प्रसन्न होते हैं तो भक्त को सफलता और सौभाग्य अवश्य प्राप्त होता जाता है।

क्या है चंद्र दर्शन के अनुष्ठान – Kya Hai Chandra Darshan Ke Anushthan 

  • हिंदू धर्म के लोग चंद्र देवता की पूजा करते हैं और उनका असीम कृपा और आशीर्वाद प्राप्त करते हैं।
  • इस दिन व्रत/उपवास भी किया जाता है। जो भक्तों द्वारा इस दिन विशेष रूप से  चन्द्र देव को प्रसन्न करने के लिए किया जाता है।
  • श्रद्धालु पुरे दिन अन्न का भोजन करने से परहेज करते हैं। व्रत का समापन चन्द्रमा दिखने के पश्च्यात ही किया जाता है और भक्त अपनी खुशियों के  लिए चंद्र देव से प्रार्थना करते हैं।
  • ऐसा भी माना जाता है कि जो भी व्यक्ति प्रत्येक और हर अनुष्ठान का श्रद्धा पूर्वक और धार्मिक रूप से इसकी पालना करता हैं, और वे चंद्र दर्शन की पूर्व संध्या पर चंद्र देव की पूजा करते हैं, उन्हें भारी समृद्धि के साथ-साथ अनंत सौभाग्य की भी प्राप्ति भी होती है।
  • इस चंद्र दर्शन के दिन दान देना एक महत्वपूर्ण अंग है और इस दिन  अनुष्ठान और चंद्र दर्शन महोत्सव का एक अभिन्न पहलू भी है।Chandra Darshan – लोग आमतौर पर इस दिन ब्राह्मणों को अपनी श्रद्धा के अनुसार चीनी,चावल और कपड़े आदि दान भी करते हैं।
  • इस दिन कई जगहों पर अनुष्ठान भी किए जाते हैं जैसे कि महिलाएं अपने पति के लंबे जीवन के लिए और साथ ही विवाहित जीवन में चल रही समस्या और भविष्य में आने वाली सभी प्रकार की विभिन्न बाधाओं से छुटकारा पाने  के लिए व्रत/उपवास भी रखती हैं।

चंद्र दर्शन का महत्व – Chandra Darshan Ka Mahatva 

  • हिंदू धर्म की मान्यताओं के अनुसार चंद्र देव को हिंदू भगवनो में से ऊँचे देवता का दर्जा भी प्राप्त है। 
  • चंद्र को महत्वपूर्ण गृह की भी मान्यता प्राप्त है जो पृथ्वी पर मनुष्य जीवन को बहुत अधिक प्रभावित भी करता है
  • चंद्र देव का सम्बन्ध अच्छे इरादों, पवित्रता से सीधा जोड़ा गया है। Chandra Darshan – साथ-साथ ज्ञान और बुद्धि से भी है और इसे सबसे अनुकूल ग्रहों में एक श्रेष्ठ गृह माना जाता है। 
  • हिंदू पौराणिक कथाओं में ऐसा माना गया है कि जब उनके जन्म कुंडली में चंद्रमा अपने अनुकूल स्थान पर जब होता है तो यह अपने मूल निवासी को बहुत ही समृद्धि और सफलता भी प्रदान करते है।
  • चंद्र देव को पौधों और जानवरों के जीवन का पोषक भी माना जाता है।
  • चंद्र दर्शन के दिन का एक सबसे महत्वपूर्ण पहलू यह भी है कि लोग इस दिन अपने पूर्वजों कीभी  पूजा करते हैं। ताकि इन से भी हमे उनका आशीर्वाद प्राप्त हो सकें।  
  • चंद्र दर्शन का पर्व हर महीने आता है और सफलता, सौभाग्य और उत्तम स्वास्थ्य की प्राप्ति के लिए लोग इस दिन चंद्र देव की पूजा करते हैं और व्रत/उपवास भी रखते हैं।Chandra Darshan – चंद्र देव की पूजा और चंद्र दर्शन के दिन उपवास करने से व्यक्ति के मन को सभी नकारात्मक विचारो से मुक्ति मिलती है और सकारात्मक विचार आते है। व्रत/उपवास का अनुष्ठान पवित्र चंद्र के मंत्रों के जाप के बाद किया जाता है।
  • चंद्र दर्शन वाले दिन, भक्त अपने आध्यात्मिक विकास के लिए गंगा के किनारे पर बैठ कर भी ध्यान करते हैं। लोग बेहतर परिणाम प्राप्त करने के लिए पूर्णिमा का व्रत/उपवास भी करते हैं।
  • चन्द्र दर्शन के दिन व्रत/उपवास रखने से मानव शरीर में कफ,पित्त और वात के तत्वों का आपसी संतुलन बनाये रखने में भी सहायता मिलती है जो सभी प्रकार के रोगों से मुक्त करने और उत्तम स्वास्थ्य को बढ़ावा देने में भी हमारी मदद करता है।
  • ज्योतिषीय महत्व के नजरिये से हमारे सभी नवग्रहो में से चंद्रमा को सबसे शक्तिशाली माना गया है और इसका हमारे जीवन पर बहुत गहरा प्रभाव भी पड़ता है।

चंद्र दर्शन के दिन क्या करते है – Chandra Darshan Ke Din Kya Karte Hai 

Chandra Darshan – हिंदू धर्म की मान्यताओं के अनुसार चंद्र दर्शन बहुत ही आवश्यक रूप से अपना महत्व रखता है। हिन्दू धर्म की मान्यताओं के अनुसार, इस दिन का एक धार्मिक महत्व होता है । इस दिन विशेष रूप से भगवान चंद्रमा की पूजा पूरी श्रद्धा और भक्ति के साथ की जाती है।Chandra Darshan – हिंदू धर्म की मान्यताओं के अनुसार इस विशेष दिन पर चंद्रमा का दर्शन करना बहुत ही फलदायी और फलदाई होता है। साथ-ही-साथ इसे भाग्यशाली और समृद्धि का प्रदान करने वाला भी माना जाता है।

चंद्र दर्शन के पर्व को हिंदुं धर्म में भगवान चंद्रमा की तरह ही माना जाता है।Chandra Darshan – ऐसा माना जाता है कि चंद्रमा की पूजा-अर्चना करने से हमारे घर में सुख-शांति व स्मृद्धि का संचार होता है और हिन्दू धर्म के अन्य देवता भी प्रसन्न होते हैं। भगवान चंन्द्रमा की पूजा घर में सफलता,सौभाग्य और समृद्धि लाती है।

चंद्र दर्शन के लाभ – Chandra Darshan Ke Labh 

Chandra Darshan – चंद्र दर्शन करने का ना केवल धार्मिक महत्व है बल्कि यह मनुष्य के शरीर को स्वस्थ रखने में भी सहायता करता है। ऐसा माना जाता है इस दिन व्रत/उपवास रखने से मानव शरीर में कफ,पित्त और वात के तत्वों को एक अच्छा संतुलन लम्बे समय तक बना रहता है। ताकि हमे कोई रोग ना हो। यानि चंद्र दर्शन स्वास्थय के संबंध में भी बहुत ही लाभदायक सिद्ध होता है।

Rread more

Latet Updates

x