Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
  • Home ›  
  • Babulnath Mandir | बाबुलनाथ मंदिर कहां स्थित है, पौराणिक कथा और इसे जुड़ी रोचक जानकारी

Babulnath Mandir | बाबुलनाथ मंदिर कहां स्थित है, पौराणिक कथा और इसे जुड़ी रोचक जानकारी

बाबुलनाथ मंदिर
March 9, 2021

श्री बाबुलनाथ मंदिर से जुड़ी रोचक जानकारी, जाने मंदिर कहां स्थित है और इस प्राचीन मंदिर से जुड़ी पौराणिक कथा।

बाबुलनाथ मंदिर – भारत के बहुत राज्यों में कई शिव मंदिर स्थित है। हिंदू धर्म भगवान भोलेनाथ ऐसे देव हैं जिनके माता-पिता व उत्पत्ति के बारे में आज तक किसी को भी कुछ स्पष्ट रूप से ज्ञात नहीं है। माना जाता है यह सदा ही थे, इसलिए इनको अनादि कहा गया है। भगवान शिव की गाथाओं का कोई अंत नहीं है। इसलिए अपने शीर्षक को ध्यान में रखते हुए हम अब आपको उनके एक प्रसिद्ध मंदिर के बारे में बताने जा रहे हैं। मारवाड़ी और गुजराती समुदाय के लोगों के लिए यह मंदिर बहुत विशेष है। शिवरात्रि के पर्व पर यहां लाखों की संख्या में भक्त आते हैं और प्रत्येक सोमवार को विशेष पूजा की जाती है।

 

यह मंदिर भारत के राज्य महाराष्ट्र के मुंबई में स्थित है, जहां भगवान शिव की प्रतिमा स्थापित की गई है। इस प्राचीन मंदिर को बाबुलनाथ जी के नाम से जाना जाता है। लोगों के मन में इस मंदिर के नाम को लेकर हमेशा से जिज्ञासा बनी रहती है कि आखिर क्यों भगवान शिव के मंदिर का नाम बाबुलनाथ पड़ा। इसके बारे में भी हम आपको बताएंगे और जानेंगे इस प्राचीन मंदिर से संबंधित विशेष जानकारी।

 

श्री बाबुलनाथ मंदिर का स्थान (Babulnath Temple)

भारत के प्राचीन व प्रसिद्ध मंदिरों में से एक यह बाबुलनाथ जी का मंदिर महाराष्ट्र के मुंबई में गिरगांव चौपटी के उत्तर दिशा की तरफ मालाबार हिल्स की पहाड़ी के ऊपर यह बाबुलनाथ का मंदिर स्थित है। यह मंदिर 17.84 किलोमीटर लंबी मीठी नदी के पास स्थित है। नक्शे पर श्री बाबुलनाथ मंदिर की स्थिति 18.9587 डिग्री उत्तर और 72.8086 डिग्री पूर्व है।

 

10 से 12 मार्च तक श्री बाबुलनाथ मंदिर होगा बंद

श्री बाबुलनाथ मंदिर 10 मार्च के दिन बुधवार को सुबह 7 बजकर 30 मिनट पर बंद कर दिया जाएगा और 12 मार्च को शुक्रवार की सुबह 7 बजकर 30 मिनट पर भक्तों के लिए खोल दिया जाएगा।

इस अवधि के समय भक्त मंदिर की बेबसाइट के माध्यम से लाइव दर्शन कर सकते हैं। इस सेवा का आनंद लेने के लिए भक्तों को किसी भी प्रकार के शुल्क का भुगतान नहीं करना पड़ेगा। जानकारी के लिए बतां दे कि कोरोना महामारी से बढ़ती संक्रमितों की संख्या को ध्यान में रखते हुए मंदिर को बंद किया जा रहा है। थोड़े समय तक थमने के बाद मुंबई में एक बार फिर से कोरोना के मामलों ने रफ्तार पकड़ ली है।

 

कैसे पहुंचा जा सकता है श्री बाबुलनाथ मंदिर

इस स्थान के समीप छत्रपति शिवाजी अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डा है, इस मंदिर तक पहुंचने के लिए इसका बहुत प्रयोग भक्तों द्वारा किया जाता है। इसलिए आज के समय में यह भारत में दूसरा सबसे व्यस्त हवाई अड्डा छत्रपति शिवाजी महाराज अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा है। इसके अलावा मुंबई सेंटर्ल व ग्रांट रोड की सहायता से देश के अलग अलग राज्यों से लोग सफर करके इस मंदिर के दर्शनों के लिए आते हैं। रेलवे के बाद नेता जी सुभाष चंद्र बोस सड़क मार्ग की सहायता से श्री बाबुलनाथ मंदिर तक पहुंचा जा सकता है। इस मार्ग को बाबुलनाथ मार्ग भी कहा जाता है।

 

श्री बाबुलनाथ मंदिर से संबंधित रोचक जानकारी

मराठी शैली की वास्तुकला से बनाया गया यह प्राचीन मंदिर विदेश से आए पर्यटकों के लिए भी आकर्षण का केंद्र रहता है। भगवान शिव को समर्पित इस मंदिर के इस नाम का यह कारण बताया जाता है कि एक ग्वाले ने इस मंदिर में स्थित शिवलिंग को अपनेे गुरु श्री पांडुरंग को दिखाया था और इस ग्वाले का नाम बाबुल था। इसलिए इस मंदिर का नाम श्री बाबुलनाथ पड़ा। वहीं दूसरी मान्यता के अनुसार कहा जाता है कि मंदिर में स्थापित शिवलिंग बबूल के वृक्ष की छाया में मिला था जिससे इस मंदिर का श्री बाबुलनाथ नाम रखा गया।

इस मंदिर का निर्माण सन 1806 में किया गया था जिसके बाद सन 1840 में भगवान शिव के परिवार के सदस्यों की मूर्तियों की भी स्थापना की गई जिसमें माता पार्वती, श्री गणेश जी, कार्तिकेय, नागदेव आदि के साथ शीतला माता, हनुमान जी, लक्ष्मीनारायण, गरूण और चंडदेव आदि की मूर्तियों की भी स्थापना की गई है। लेकिन कहा जाता है कि सन 1780 में इसका निर्माण कार्य आरंभ हो गया था।

आज के समय में श्री बाबुलनाथ महादेव देवालय संस्था द्वारा इस मंदिर की देखभाल की जाती है। इस मंदिर तक पहुंचने के लिए लिफ्ट का प्रबंध भी करवाया गया है, लेकिन भक्त सीढ़ियां चढ़कर अपनी आस्था का उदाहरण देते हुए मंदिर में भगवान के दर्शनों के लिए जाते हैं।

 

श्री बाबुलनाथ मंदिर की ऐतिहासिक कथा

ठस मंदिर के इतिहास से संबंधित कई कथाएं प्रचलित है। जिसमें से एक पौराणिक कथा के अनुसार मंदिर की इस मालाबार पहाड़ी पर आज से लगभग 300 वर्ष पूर्व समय में एक बड़ा चरागाह रहता था। पहाड़ी व उसके आस-पास की जमीन का ज्यादातर हिस्सा सुनार पांडुरंग के पास था। इस समृद्ध सुनार के पास कई गायें थी, जिसके लिए पांडुरंग ने एक चारवाहा रखा हुआ था। जिसका नाम बाबुल था। सभी गाय में से कपिला नाम की गाय सभी से ज्यादा दूध देती थी।

पांडुरंग ने एक दिन देखा कि कपिला कुछ दिनों से बिल्कुल भी दूध नहीं दे रही है इसलिए उसने बाबुल से इसका कारण पूछा। तो बाबुल का उत्तर सुनकर सुनार आश्चर्यचकित रह गया। बाबुल ने बताया कपिला का दूध ने देना काफी दिनों से चलता आ रहा है। यह गाय गास चरने के बाद एक विशेष स्थान पर जाकर अपना दूध फेंक आती है। तभी सुनार ने अपने आदमियों से उस स्थान पर खुदाई करने के लिए कहा और खुदाई के बाद वहां से एक कालेे रंग का स्वयंभू शिवलिंग निकता। तब से लेकर आजतक उस स्थान पर बाबुलनाथ का पूजन किया जाता आ रहा है।

 

अन्य जानकारी

Latet Updates

x