Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Post Type Selectors
  • Home ›  
  • व्यापर वृद्धि के उपाय | Vyapar Vridhi Ke Upay 

व्यापर वृद्धि के उपाय | Vyapar Vridhi Ke Upay 

व्यापर वृद्धि के उपाय
January 6, 2023

Advertisements
Advertisements

व्यापर वृद्धि के उपाय – Vyapar Vridhi Ke Upay 

व्यापर वृद्धि के उपाय

व्यापर वृद्धि के उपाय – आज के युग में अधिकांश व्यक्ति नौकरी की में अपेक्षा व्यापार तथा स्वंम का व्यवसाय करना अधिक पसंद करते हैं। यही कारण है कि नौकरी से सीमित और निर्धारित धन ही प्राप्त होता है।तो वहीं व्यापार तथा व्यवसाय से अपार धन प्राप्ति  तथा उसके विस्तार की संभावना ज्यादा रहती है। इसीलिए व्यक्ति अपने व्यापार-व्यवसाय को जमाने और उसकी प्रगति के लिए अधिक प्रयास करता है। और उपाय भी करते हैं। लेकिन अनेक लोग सभी प्रकार के क्रियाकलापों तथा विभिन्न प्रकार के तरीको को अपनाने के बाद भी व्यवसाय या अपने व्यापार में सफल नहीं हो है। तो फिर व्यक्ति निराश होकर अपने उसे व्यापर को बंद कर देते हैं। ऐसी स्थिति में आप यहां बताये गए उपाय को आजमा कर अपने व्यापार एवं व्यवसाय को तरक्की प्रदान करा सकते हैं। इन से कार्यस्थल, दुकान या फैक्टरी या व्यवसाय आदि की उत्तरोत्तर तरक्की होने लगती है।

आज हम आपकों ऐसेही कुछ चमत्कारी टोटके व उपाय के बारे में बताने जा रहे है। 

व्यापर वृद्धि के उपाय

 

व्यापर वृद्धि के टोटके – Vyapar Vridhi Ke Totke

 

व्यापर वृद्धि के उपाय –  आप श्री यंत्र को कमलगट्टे की माला पर स्थापित करें। तो व्यापार एवं व्यवसाय का धीरे-धीरे विस्तार होने लगता है।

सुबह अपनी दुकान खोलने के बाद लक्ष्मी जी के चित्र को धूप दिखाकर प्रणाम करें। तो अवश्य ही बिक्री बढ़ती है।और आर्थिक लाभ होता है। 

12 गोमती चक्र को कपड़े में बांध कर अपने कार्यस्थल की चौखट पर लटका दें। ताकि आने वाला ग्राहक उसके नीचे से निकलें। इससे भी आपके व्यापार में वृद्धि में लाभ मिलता है।

 

आप एक नारियल को चमकीले और नए लाल वस्त्र में लपेट कर अपने व्यावसायिक स्थल पर रखने से व्यवसाय में अधिक लाभ होता है।

एकाक्षी नारियल को अपनी दुकान में रखने से वह खूब प्रगति करती है।

व्यापर वृद्धि के उपाय –  यदि आपका व्यवसाय किसी मशीनों से संबंधित है। तो आपके व्यवसाय में कोई महंगी मशीन है। अथवा कोई मशीन बार बार खराब होती है। तो आप काली हल्दी को पीस कर केसर और गंगाजल में मिलाकर प्रथम बुधवार के दिन उस मशीन पर स्वास्तिक का चिन्ह बना दें। ऐसा करने से मशीन खराब नहीं होगी।

अपने पूजा स्थान में श्रीयंत्र के साथ कुछ नागकेसर रखने से भी व्यापार और व्यवसाय में बहुत तरक्की होती है।

व्यापर वृद्धि के उपाय –  दुकान और व्यवसाय के उद्घाटन के समय चांदी की एक कटोरी में धनिया डाल कर उसमें चांदी की माँ लक्ष्मी और भगवान् श्री गणेश की मूर्ति को रख दें। इस कटोरी को पूर्व दिशा की ओर स्थापित करें। दुकान खोलते ही 5 अगरबत्ती से इनका श्रद्धा से पूजन करने से दुकान और व्यवसाय में बहुत तरक्की होने की संभावना बन जाती है। 

स्वंम की दुकान एवं व्यवसाय शुरू करते समय मिट्टी के 4 कलश में क्रमश: काले तिल, मूंग, जौ तथा पीली सरसों को भरकर रखने से ग्राहकों का आगमन सरलता से हो जाता है। ये कलश वर्ष भर रखें तथा अगले वर्ष इन्हें नदी में प्रवाहित करके नए कलश में पुन: नई सामग्री भर कर रख लें।यही प्रतिक्रिया को दोहराएं। ऐसा करने से ज्यादा आर्थिक लाभ होता है। 

व्यापर वृद्धि के उपाय –  यदि आपके व्यवसाय में लगातार हानि या तेजी से नुकसान हो रहा हो तो वट वृक्ष की जड़ को लेकर उसे आप रेशमी धागे से बांधकर अपनी दुकान के मुख्य द्वार के समीप लटका दें। यदि आप कच्चे रेशमी धागे को लाल चंदन से रंग लें। तो शीघ्र ही अधिक लाभ होने लग जाता है।

आप देसी कपूर और रोली को जलाएं और उसकी राख बना लें। फिर उस राख को अपनी दुकान के गल्ले में रखें। इससे व्यापार अधिक तरक्की होती है।

व्यापर वृद्धि के उपाय –  आप अपनी दुकान या व्यवसाय स्थल को खोलने से पूर्व  उसके मुख्य द्वार के दोनों ओर गंगाजल छिड़काव करें। ऐसा करने से आपका दिन काफी फलदायी होगा।

शनिवार के दिन आप अपने पुराने व्यावसायिक स्थल से कच्चे लोहे की कोई भी वस्तु को लाकर नए व्यावसायिक स्थल पर रख दें।ऐसा करने से पुराने के साथ-साथ नए व्यावसायिक प्रतिष्ठा में भी  में भी आपको अपार सफलता मिलने लगेगी।

व्यापर वृद्धि के उपाय –  आप अपने कार्यस्थल या दुकान पर अंदर प्रवेश करने से पहले अपना दाहिना हाथ ज़मीन (चौखट) पर लगाएं। और उसके बाद अपने उसी हाथ को अपने मस्तक या हृदय पर लगाएं। 

आप अपने व्यापार और कारोबार में वृद्धि पाने के लिए लक्ष्मी नारायण जी के मंदिर में हर शुक्रवार को गुड़ चना का भीग लगा कर उस प्रसाद को बाँटें।

आप अपने व्यापार में स्थायी लाभ पाने हेतु किसी कुत्ता, गाय और कौवों को रोटी अवश्य खिलाएं। 

व्यापर वृद्धि के उपाय 

 

 

Latet Updates

x